Helpline No: 8178016806

निर्माण विभाग, गाजियाबाद नगर निगम, गाजियाबाद। गाजियाबाद नगर निगम के अन्तर्गत विभिन्न विभागों में से निर्माण विभाग एक महत्वपूर्ण विभाग है जो कि नगर निगम सीमान्तर्गत क्षेत्रों में अनेक प्रकार के निर्माण कार्य को सम्पादित कराता है। जोकि निम्नवत् है। 01. सडक निर्माण कार्य गाजियाबाद शहर में विभिन्न क्षेत्रों में स्थित सडकों का नगर निगम गाजियाबाद के निर्माण विभाग द्वारा निर्माण कराया जाता है व रखरखाव एंव संरक्षण का कार्य भी निर्माण विभाग द्वारा किया जाता है। 02. नाला निर्माण कार्य: गाजियाबाद शहर में विभिन्न क्षेत्रों में स्थित नालो का नगर निगम गाजियाबाद के निर्माण विभाग द्वारा निर्माण कराया जाता है व रखरखाव एंव संरक्षण का कार्य भी निर्माण विभाग द्वारा किया जाता है। जिससे की शहर में जल भराव की स्थिति न उत्पन्न हो सके। 03. अन्य निर्माण कार्य: निर्माण विभाग द्वारा जन सुविधा हेतु विभिन्न प्रकार के निर्माण कार्य कराये जाते हैं। जैसे कि सामुदायिक केन्द्र का निर्माण कार्य। अनाश्रित लोगों के लिये स्थाई/अस्थाई आश्रय स्थलों का निर्माण कराया जाता है। क्षेत्रों की गलियों का निर्माण कार्य व अनुरक्षण का कार्य निर्माण विभाग द्वारा कराया जाता है।

निर्माण विभाग द्वारा नागरिकों को जनसुविधा को हेतु पाॅच जोनो में विभाजित कर स्थापित किया गया है। जो क्रमशः निम्नवत् है।
  1. - सिटी जोन
  2. - कविनगर जोन
  3. - विजयनगर जोन
  4. - मोहननगर जोन
  5. - वसुन्धरा जोन।

उक्त पाॅचों जोनो मे नागरिको की समस्या के निस्तारण हेतु निर्माण विभाग के अवर अभियन्ता द्वारा सम्बन्धित शिकायतों का संज्ञान लेते हुय उचित कार्यवाही करते हुये निस्तारण हेतु पत्रावलियाॅ तैयार कर निर्माण सम्बन्धी कृत कार्यवाही करते है। निर्माण विभाग द्वारा सडक में होने वाली दुर्घटनाओं को दृष्टिगत रखते हुए सडक पर स्पीड ब्रेकर का निर्माण जनहित में कराया जाता है। जिससे कोई दुर्घटना न हो सकें। विभिन्न स्थलों पर सडकों पर बिल्ंक लाईट पैदल पथ यात्रियों को सडक पार करने हेतु जेबरा क्रोसिंग का निमार्ण कराया जाता है। सडक पर टैªफिक व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाये जाने हेतु डिवाईडरों व कटों का निमार्ण कराया जाता है।

प्रायः उ0प्र सरकार द्वारा विभिन्न योजनाओं के अन्तर्गत निर्मित आवासीय कालोनी, सडकों व जनसुविधा केन्द्रों का रखरखाव व अनुरक्षण हेतु नगर निगम गाजियाबाद को हस्तान्तरीत की जाती है। जिनमें सडक, जलनिकासी व अन्य निमार्ण कार्य निमार्ण विभाग द्वारा कराये जाते हैै।

निमार्ण विभाग द्वारा जनसुविधाओं हेतु समाधान दिवस का आयोजन किया जाता है जिसमें क्षेत्र की आम जनता के समक्ष बतायी/दी जाने वाली समस्याओं का समाधान किया जाता है। जिससे जनता को असुविधा का सामना नही करना पडता है।

नगर निगम के निर्माण विभाग द्वारा स्थल के अनुसार कार्यवाही करते हुए अवर अभियन्ता द्वारा स्थल का माप किया जाता है तत्पश्चात् मानचित्र इत्यादि बनाकर सहायक अभियन्ता के समक्ष प्रस्तुत कर अधिशासी अभियन्ता की पुष्टि के उपरान्त मुख्य अभियन्ता द्वारा अपनी स्वीकृति प्रदान करते हुए नगर आयुक्त महोदय के समक्ष पत्रावली प्रस्तुत कर अधिकृत स्वीकृति उपरान्त निविदा आमंित्रत कर कार्य को सम्पादित कराया जाता है। उक्त कार्यो की निविदा आमंित्रत कर खोली जाती है तथा खोली गई प्राप्त निविदाओं तुलनात्मक विवरण तैयार किये जाने के उपरान्त ही न्यूनतम ठेकेदार को कार्यादेश जारी किया जाता है। स्थल पर कार्य प्रारम्भ करने से पूर्व अवर अभियन्ता/सहायक अभियन्ता द्वारा ठेकेदार या उसके प्रतिनिधि को स्थल दिखाया जाता है और समय-समय पर अवर अभियन्ता/सहायक अभियन्ता द्वारा स्थल का निरीक्षण किया जाता है। स्थल पर चल रहे कार्य में प्रर्युक्त की जा रही साम्रगी का नगर निगम मुख्यालय स्थित परिक्षण/प्रयोगशाला में उचित उपकरणों द्वारा जाॅच की जाती है तथा नगर निगम गायिजाबाद के निर्माण विभाग द्वारा अवस्थापना विकास निधि, 13वाॅ वित्त आयोग, नगरीय सडक सुधार योजना एंव नगरीय जलनिकासी योजना के अन्तर्गत ठेकेदार द्वारा किये गये कार्यो में प्रर्युक्त की गई साम्रगी की जाॅच राष्ट्रीय परीक्षपण शाला (उ0क्षेत्र), कमला नेहरूनगर, गािजयाबाद एंव एल्फा टेस्ट हाऊस, एम-577, गुरू हरकिशन नगर, पश्चिम विहार, नई दिल्ली में मानको के अनुरूप परिक्षण कराने के उपरान्त ही कार्य सम्पादित/पूर्ण कराये जाते हैं। जिससे नगर निगम द्वारा कराये गये कार्य में गुणवत्ता बनी रहे और शहर की जनता में रोष उत्पन्न न हों।